पौध रोपण में गड़बड़ी पर रेंजर समेत 3 निलंबित,तीन अधिक ारियों पर भी कार्यवाही

  पिछली सरकार में दो साल पहले एक दिन में सात करोड़ पौध रोपण का विश्व रिकॉर्ड बनाने की हकीकत अब सामने आने लगी है। वनमंत्री उमंग सिंघार ने बैतूल जिले के जंगल के  महज एक कंपार्टमेंट की मौके पर पहुंचकर हक ीकत पता की तो बड़े पैमाने पर गड़बड़ी सामने आई। वहां 15 हजार पौध रोपण का खर्च दिखाया गया,लेकिन इन्हें रोपने गड्डे ही महज 9 हजार खोदे गए। जो पौधे रोपे गए उनमें अब 15 प्रतिशत भी जीवित नहीं है। इस गड़बड़ी पर वन मंत्री ने कंपार्टमेंट के रेंजर, डिप्टी रेंजर व वन रक्षक  को मौके पर ही निलंबित करने के निर्देश दिए जबकि वन मंडल  के तत्कालीन डीएफओ संजीव झा,मौजूदा डीएफओ राखी नंदा व एसडीओ का शोकाज नोटिस देने के साथ ही मुख्यालय अटैच किया गया है।

 गौरतलब है,कि चुनाव के दौरान पौध रोपण को लेकर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के आरोप तत्कालीन सरकार पर लगाती रही है। सत्ता में आने के बाद वन मंत्री ने इसक ा रिकॉर्ड तलब किया तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए।  दो जुलाई 2017 को चलाए गए इस अभियान के तहत बैतूल जिले में भी बड़े स्तर पर पौध रोपण किया गया था। जिले की शहपुरा रेंज के कंपार्टमेंट क्रमांक 227 की ही सैटेलाइट आधारित छायाचित्र का अवलोकन किए जाने पर वहां मैदान साफ नजर आया। इसके बाद गुरुवार को वन मंत्री उमंग सिंघार स्वयं शहपुरा रेंज पहुंचे और  मौका मुआयना किया तो वस्तुस्थिति देख हैरत में पड़ गए। पड़ताल में सामने आया कि विभाग ने इस कंपार्टमेंट में 15526 पौधे रोपने का दावा किया,लेकिन पौध  रोपण के लिए गड्डे महज 9 हजार खोदना बताए। यही नहीं रोपित पौधों में वर्तमान में 15 प्रतिशत पौधे भी जीवित नहीं मिले।

 रेंजर समेत तीन निलंबित, डीएफओ को थमाया नोटिस,मुख्यालय अटैच

 गड़बड़ी सामने आने पर वन मंत्री ने रेंजर जीएस जाटव,डिप्टी रेंजर गुलाब सिंह बर्डे वनरक्षक सतीश कवड़े को निलंबित करने के निर्देश दिए जबकि वर्तमान वनमंडलाधिकारी राखी नंदा,तत्कालीन वनमंडलाधिकारी संजीव झा, एक एसडीओ,वन पाल मूलचंद परते,फिरोजखान को कारण बताओ नोटिस थमाए जाने के साथ ही इन्हें मुख्यालय अटैच किया गया है। वन मंत्री श्री सिंघार ने मीडिया से कहा,कि अन्य रेंज में हुए पौध रोपण की जांच भी कराई जा रही है। गड़बड़ी सामने आने पर किसी को वख्शा नहीं जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here